कब खत्म होगा कोरोना वायरस? डब्ल्यूएचओ ने स्पेनिश फ्लू का उदाहरण देकर जताई उम्मीद! -
Connect with us

INDIA

कब खत्म होगा कोरोना वायरस? डब्ल्यूएचओ ने स्पेनिश फ्लू का उदाहरण देकर जताई उम्मीद!

Published

on

कोरोना महामारी से इस समय दुनियाभर के लोग प्रभावित हैं। सभी को बस यही इंतजार है कि यह बीमारी जल्दी खत्म हो। अच्छी बात है कि जल्द ही आम लोगों के लिए इसकी वैक्सीन उपलब्ध होगी। इस बीच विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) प्रमुख जनरल टेड्रोस गेब्रियेसस ने कोरोना महामारी खत्म होने को लेकर बड़ा बयान दिया है। उनका कहना है कि यह महामारी दो साल में खत्म हो सकती है। साल 1918 में फैले स्पेनिश फ्लू का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि उसे खत्म होने में भी दो साल का समय लगा था। आज हमारे पास बहुत सारी तकनीक उपलब्ध है, इसलिए हो सकता है कि यह कम समय में ही खत्म हो जाए।

WHO director general:-
जेनेवा स्थित मुख्यालय में वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान टेड्रोस ने कहा कि आज हमारे पास महामारी रोकने की तकनीक भी है और ज्ञान भी है। उन्होंने कहा कि इतिहास पर गौर करने पर पाएंगे कि अर्थव्यवस्था और समाज में परिवर्तन के कारण महामारियां फैलीं। संगठन ने कोरोना महामारी से निपटने के भारत के प्रयासों की सराहना भी की है।


डब्ल्यूएचओ के हेल्थ डिजास्टर प्रोग्राम के कार्यकारी निदेशक डॉ. माइक रेयान ने कहा था कि भारत में कोरोना के केस तीन हफ्ते में दोगुने हो रहे हैं। बांग्लादेश, पाकिस्तान और दक्षिण एशिया के घनी आबादी वाले देशों में भी अभी महामारी की स्थिति विस्फोटक नहीं हुई है, लेकिन ऐसा होने का खतरा बना हुआ है। उन्होंने चेतावनी दी कि अगर सामुदायिक स्तर पर संक्रमण शुरू हो जाता है तो ये काफी तेजी से फैलेगा।


कोरोना को लेकर WHO की नई गाइडलाइन, ‘ओरल चेकअप’ संबंधी पांच बातों का ध्यान रखना जरूरी

प्रतीकात्मक तस्वीर:-
डॉ. रेयान ने कहा कि भारत में लोगों की आवाजाही दोबारा शुरू हो गई है, ऐसे में संक्रमण बढ़ने का खतरा बना हुआ है। वहीं, डब्ल्यूएचओ की मुख्य वैज्ञानिक डॉ. सौम्या स्वामीनाथन ने कहा कि भारत में कोरोना के जितने कुल मामले हैं वे 130 करोड़ की आबादी के हिसाब से बहुत ज्यादा नहीं हैं, लेकिन संक्रमण की दर और रफ्तार पर नजर रखना अहम है।


पीपीई किट में असुविधा होने के बावजूद स्वास्थ्यकर्मियों को घंटों पहने रहना होता है:-
एक सवाल के जवाब में टेड्रोस ने कहा, पीपीई से जुड़ा भ्रष्टाचार बड़ा अपराध है। यह हत्या की तरह है, इसे बिल्कुल भी स्वीकार नहीं किया जा सकता। अगर स्वास्थ्यकर्मी बिना पीपीई किट के काम कर रहे हैं तो वे हमारे लिए अपनी जान खतरे में डाल रहे हैं। पीपीई में भ्रष्टाचार, स्वास्थ्यकर्मियों के जीवन को खतरे में डालने जैसा है।

WHO:-
विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण के लिए भारत के प्रयासों की तारीफ की है। डब्ल्यूएचओ ने हालांकि यह भी कहा है कि भारत में संक्रमण का रिस्क बना हुआ है, इसलिए सावधान रहने की जरूरत है। आयुष्मान भारत योजना की तारीफ करते हुए डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि इससे कोरोना से निपटने में मदद मिलेगी।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

BIHAR

RRB NTPC: आप परीक्षा में शामिल हो पाएंगे या नहीं, इस तरह करें चेक!

Published

on

PC application status: आरआरबी ने एनटीपीसी परीक्षा के लिए एप्लीकेशन स्टेटस चेक करने का लिंक सक्रिय कर दिया है। इस खबर में दिए लिंक से आप जान सकते हैं कि आपका आवेदन स्वीकार हुआ है या नहीं।

RRB NTPC application status check link: अब देश के करोड़ों उम्मीदवार यह चेक कर सकते हैं कि वे रेलवे भर्ती बोर्ड (RRB) की नॉन टेक्निकल पॉपुलर कैटेगरी भर्ती परीक्षा (NTPC Exam 2020) में शामिल हो सकते हैं या नहीं। आरआरबी ने दिसंबर 2020 में होने जा रही एनटीपीसी भर्ती 2019 की परीक्षा के लिए एप्लीकेशन स्टेटस चेक करने का लिंक सक्रिय कर दिया है।

जिन उम्मीदवारों ने इस परीक्षा के लिए आवेदन किया था, अब वे आरआरबी द्वारा जारी लिंक से चेक कर सकते हैं कि उनका आवेदन स्वीकार किया गया है या नहीं। अगर किसी आधार पर आपका एप्लीकेशन रिजेक्ट कर दिया गया है, तो आप परीक्षा में शामिल नहीं हो पाएंगे।

कैसे चेक करें एप्लीकेशन स्टेटस
आरआरबी की वेबसाइट rrbcdg.gov.inपर जाएं।
होम पेज पर आरआरबी एनटीपीसी एप्कीलेकशन स्टेटस से संबंधित लिंक पर क्लिक करें।नया पेज खुलेगा।एप्लीकेशन स्टेटस का पेज खुलेगा। यहां आरआरबी का वह रीजन सेलेक्ट करें, जिसके लिए आपने आवेदन किया था।

नया पेज खुलेगा। यहां दी गई जगह में अपना रजिस्ट्रेशन नंबर, जन्म तिथि और कैप्चा दर्ज कर लॉग-इन करें।
लॉग-इन करते ही आपका एप्लीकेशन स्टेटस स्क्रीन पर दिख जाए।

आरआरबी ने एनटीपीसी परीक्षा के लिए एप्लीकेशन स्टेटस चेक करने का लिंक आज (21 सितंबर 2020) सक्रिय किया है। उम्मीदवार 30 सितंबर 2020 तक अपने आवेदन का स्टेटस चेक कर सकते हैं। कुछ दिन पहले रेलवे द्वारा की गई घोषणा के अनुसार, आरआरबी एनटीपीसी सीबीटी-1 का आयोजन 15 दिसंबर 2020 को किया जाएगा।

Continue Reading

BIHAR

CTET News 2020: CTET का एडमिट कार्ड जल्द जारी होने की है संभावना, जानें क्या है लेटेस्ट अपडेट!

Published

on

CTET News 2020: परीक्षा कंप्यूटर आधारित टेस्ट मोड के माध्यम से ऑनलाइन मोड में आयोजित की जा सकती है-केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) जल्द ही आधिकारिक वेबसाइट ctet.nic.inपर CTET 2020 Admit Card जारी करने की उम्मीद है।Unlock होने के बाद कई प्रतियोगी परीक्षाएं भी आयोजित की जा रही है।इससे संभावना जताई जा रही है कि CTET 2020 Admit Card और परीक्षा डेट को लेकर नोटिफिकेशन जारी किया जा सकता है।

CTET 2020 Exam की तारीख जो पहले 5 जुलाई थी, कोविड -19 महामारी के कारण स्थगित कर दी गई थी।परीक्षा आयोजित करने वाली संस्था CBSE ने अभी तक नई परीक्षा तिथियों की घोषणा नहीं की है।जिन उम्मीदवारों ने परीक्षा के लिए आवेदन किया है, वे CTET Admit Card का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।हालांकि इस बारे में अभी तक कोई आधिकारिक नोटिफिकेशन जारी नहीं किया गया है।

जिन उम्मीदवारों ने सफलतापूर्वक परीक्षा के लिए आवेदन किया था, वे आवश्यक लॉगिन विवरण दर्ज करके आधिकारिक वेबसाइट से अपना CTET Admit Card डाउनलोड कर सकेंगे।CTET Exam के बारे में सरकारी स्कूलों में शिक्षक बनने के लिए उम्मीदवारों की योग्यता निर्धारित करने के लिए सेंट्रल टीचर एलिजिबिलिटी टेस्ट परीक्षा हर साल दो बार आयोजित की जाती है।परीक्षा कंप्यूटर आधारित टेस्ट मोड के माध्यम से ऑनलाइन मोड में आयोजित की जाती है।CTET का एडमिट कार्ड जारी होने के बाद उम्मीदवार इन स्टेप्स को फॉलो करके आसानी से अपना एडमिट कार्ड डाउनलोड कर सकते हैं ।

Continue Reading

INDIA

अब शिक्षक बनने के लिए चार साल की बीएड होगी जरूरी, नई नियम और पात्रता लागू!

Published

on

अब अगर शिक्षक बनना है, तो चार साल का बीएड करना अनिवार्य होगा। नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति ने शिक्षक बनने के लिए नए नियम व पात्रता तय कर दी है। राज्य में भी जल्द शिक्षक भर्ती करने को लेकर इस नियम को लागू किया जाएंगा। शिक्षा अधिकारी शिक्षा नीति के प्रारूप को स्टडी करने में जुट गए है। बताया जा रहा है कि नई शिक्षा नीति में ग्रामीण क्षेत्र में कुछ विशेष मैरिट अधारित छात्रवृति को स्थापित किया जाएंगा, जिसके तहत चार वर्षीय बीएड डिग्री सफलता पूर्वक पूरा करने के बाद स्थानिय क्षेत्रों में रोजगार दिया जाएगा। शिक्षा अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार बीएड में छात्रों को दी जाने वाली छात्रवृत्ति के तहत स्थानीय छात्रों को अपने ही क्षेत्र में रोजगार दिया जाएगा, जिससे की ये छात्र स्थानीय क्षेत्र के रोल मॉडल के रूप में और उच्चतर-योग्य शिक्षकों के रूप में सेवा कर सकें, जो स्थानीय भाषा बोलते हो।

नई शिक्षा नीति में कहा गया है कि उत्कृष्ठ शिक्षकों के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षण कार्य करने के लिए प्रोत्साहन प्रदान किया जाएगा, विशेष रूप से ऐसे क्षेत्रों में जो वर्तमान में सबसे ज्यादा शिक्षक की कमी का सामना कर रहे है। फिलहाल नई शिक्षा नीति में शिक्षक बनने के लिए चार साल की रखी गई शर्त से अभ्यार्थिंयों के लिए चिंताएं खड़ी कर सकता है। दरअसल हिमाचल में अभी बीएड का कोर्स दो साल का होता है। अब चार साल का होने के बाद छात्रों को शिक्षक की ऐसी ट्रेनिंग दी जाएंगी, जिसमें उन्हें छात्रों के साथ कैसे व्यवहारिक व शैक्षणिक माहौल बनाना है, इस बारे में बताया जाएंगा। अहम यह है कि नई शिक्षा नीति में यह भी प्रावधान किया गया है कि शिक्षक व समुदाय के बीच संबंध बने और वह अपने समुदाय से जुड़ा रहे, जिससे छात्रों को रोल मॉडल और शैक्षिक वातावरण मिल सकें, इसके लिए शिक्षकों की ट्रासंफर पर रोक लगाई जाएंगी।

न्यू एजुकेशन पॉलिसी में साफ किया गया है कि बहुत ही विशेष परिस्थितियों में शिक्षकों के तबादले किए जाएंगे। इसके लिए अनिवार्य यह भी किया गया है कि ऑनलाइन ही शिक्षकों के तबादले किए जाएंगे। फिलहाल नई शिक्षा नीति को लेकर हिमाचल सरकार भी मसौदा तैयार करने में जुट चुकी है। सरकारी व प्राइवेट स्कूलों के शिक्षकों की परफोर्मेंस जांचने का कार्य भी स्कूलों में होगा। बता दे कि अभी शिक्षक बनने के लिए टेट, सेट, नेट, व डीएलएड अनिवार्य है, लेकिन अब बीएड को चार करने से शिक्षा में गुणवत्ता विभाग लाएगा।

शिक्षा विभाग से मिली जानकारी के अनुसार विषयों में शिक्षकों की पर्याप्त संख्या सुनिश्चित करने के लिए विशेष रूप से कला, शारीरिक शिक्षा, व्यावसायिक शिक्षा और भाषाओं जैसे विषयों में शिक्षकों को एक स्कूल या स्कूल कॉम्पलेक्स में भर्ती किया जा सकता है। प्रदेश सरकार इसको लेकर ग्रुपिंग ऑफ स्कूल का प्रारूप तैयार करेगा। फिलहाल नई शिक्षा नीति के नियमों को लागू करने से पहले शिक्षा अधिकारी इस पर स्टडी कर रहे है। बताया जा रहा है कि हिमाचल में शिक्षक भर्ती व ऑनलाइन तबादलों पर कार्य करने पर ज्यादा फोकस करेगा।

राष्ट्रीय शिक्षा नीति के लिए हिमाचल में गठित की गई 43 सदस्यीय टास्क फोर्स कि 11 कमेटियां भी बनाई गई है। कमेटी में टास्क फोर्स के चार-चार सदस्यों को शामिल किया गया है। यह कमेटियां राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू करने के लिए अपने सुझाव देंगी। कमेटियों को सुझावों को सरकार के समक्ष रखा जाएगा। कमेटियों के सुझाव आने के बाद प्रदेश में अब टास्क फोर्स की आगामी बैठक होगी। कमेटियों को नीति के कुछ विषयों पर विस्तृत अध्ययन करने का जिम्मा भी सौंपा जाएगा।

Continue Reading
BIHAR12 months ago

RRB NTPC: आप परीक्षा में शामिल हो पाएंगे या नहीं, इस तरह करें चेक!

BIHAR12 months ago

CTET News 2020: CTET का एडमिट कार्ड जल्द जारी होने की है संभावना, जानें क्या है लेटेस्ट अपडेट!

INDIA12 months ago

अब शिक्षक बनने के लिए चार साल की बीएड होगी जरूरी, नई नियम और पात्रता लागू!

BIHAR12 months ago

CSBC Bihar Driver Constable Admit Card 2020: बिहार सिपाही भर्ती के एडमिट कार्ड जारी! यहां से करें डायरेक्ट डॉनलोड!

INDIA12 months ago

WhatsApp का नया फ़ीचर, फ़ोटो-वीडियो सेंड करने के बाद ख़ुद से होंगे गायब!

INDIA12 months ago

SSC Exam Date 2020: आयोग ने घोषित की CHSL, CGL, JE, स्टेनो समेत सभी लंबित परीक्षाओं डेट्स, देखें 1 अक्टूबर से 31 अगस्त 2021 का एग्जाम कैलेंडर!

BIHAR1 year ago

बॉयफ्रेंड संग होटल में थी बीवी, आ धमका पति, चप्पलों की कर डाली बौछार

BIHAR1 year ago

दरभंगा में बनाई जाएगी AIIMS, दरभंगा के जनता की लगातार मांग के के बाद पीएम ने दिया दरभंगा में AIIMS की मंजूरी !

BUSINESS1 year ago

आपको रोजाना मिलेगा 3.5 रुपये में 1 जीबी डेटा, Reliance Jio के इस जबरदस्त प्लान!

BIHAR1 year ago

सुशांत सिंह राजपूत केस में NCB ने रिया चक्रवर्ती को किया गिरफ्तार!

Trending